प्रबंधन और थिएटर ऑफ़ रेलेवंस - मंजुल भारद्वाज





प्रबंधन और थिएटर ऑफ़ रेलेवंस
- मंजुल भारद्वाज
थिएटर का प्रबंधन यानि मैनेजमेंट से क्या रिश्ता है ? थिएटर की हमारी जिंदगी में क्या अहमियत है ?
बस मात्र मनोरंजन और उससे आगे कुछ नहीं । एक समाज के रूप में हम सब बड़े हँसते हुए यह कहते हैं कि पूरा संसार एक मंच हैं और हम सब इसके अभिनेता हैं । पर यह बात बस कहने भर की है । इसे कौन याद रखता है ? और इस तरह से हम जिंदगी की आकर्षक चुनौतियों और खोजी यात्राओं - अंतः और बाह्य को करने , तलाशने से वंचित रह जाते हैं ।
थिएटर का मतलब है समय और जगह (Time and Space) का प्रबंधन ।
मानव संसाधनों , भावनाओं , विचारों , सपनों , इच्छाओं , क्रियाओं , प्रतिक्रियाओं तथा कारोबारी , सामाजिक और संगठनात्मक व्यवहार के मैनेजमेंट के लिए थिएटर हमेशा एक जिवंत अनुभव है । एक विरेचन (कैथारसिस) प्रक्रिया है । क्या आपने कभी सोचा है कि आप मेनेजर , लीडर या कारोबारी उद्मयी कुछ भी हो थिएटर आपको सशक्त बना सकता है । थिएटर का अनुभव जीवन भर साथ रहता है । आज का विश्व वैल्यू बेस्ड लीडरशिप को मानता है । और थिएटर इस अपेक्षा को पूरा करने की राह दिखता है । आप भी जानते होंगे कि हमारे राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को सत्य के महत्व का ज्ञान कैसे हुआ था ? उन्होंने एक नाटक देखा था , राजा हरिश्चंद्र । इस नाटक ने युवा मोहनदास पर ऐसा प्रभाव डाला था , जिसने उन्हें स्वयं और उनके माध्यम से पूरे देश को सत्य की राह दिखाई थी । थिएटर हमारे अंदर वैल्यूज जगाता है । और वैल्यूज यानी मूल्यों पर आधारित नेतृत्व आज के मानव समाज की आवश्यकता है ।
आश्चर्यजनक बात है कि क्या हमने यह महसूस किया है कि थिएटर से हमे कितना कुछ मिल सकता है । इस वजह से स्कूली शिक्षा में भी थिएटर को नियमित स्थान नहीं मिल पाया है । यहाँ तक की हम चारों वेदों के नाम तो याद रखते हैं पर यह याद नहीं रखते की नाटक को पंचम वेद कहा गया है । थिएटर इंसान को प्रभावित करता है । थिएटर खुद को तलाशने की प्रयोगशाला है , अपने आपको चुनौती देने का मौका है , अपनी क्षमताओं और कमियों को पहचानने का जरिया है , दूसरों से जुड़ने , भावनात्मक प्रतिभा , अभिव्यक्ति , खुलापन आदि का रास्ता है । जिनसे की मानवीय प्रक्रियाओं की गहरी समझ पैदा होती है ।
थिएटर सृजनात्मकता है और आज के बिजनेस और मैनेजमेंट के लीडरों को अपने लक्ष्य प्राप्त करने के लिए सृजनात्मक होना जरुरी है । सृजनात्मक प्रतिभा बंधी बंधाई परिपाटी पर चलने की बंद मानसिकता से मुक्ति प्रदान करती है । सृजनात्मकता इंसान को अपनी सुविधाओं की चहारदीवारी से बाहर निकाल कर अपनी अंतःचेतना के बीहड़ में उतरने का साहस प्रदान करती है । उत्सुकता पैदा करती है । ध्यान लगाना सीखाती है और सभी विवादों व चिंताओं को स्वीकारना सीखाती है । सृजनात्मकता रोज़ नए रूप में पैदा होना सीखाती है । अपने आप को महसूस करना सीखाती है , और यही सब बातें थिएटर का बेसिक अनुशासन है । दूसरे लोगों के साथ आदान - प्रदान में सृजनात्मकता होना सबसे जरुरी मानवीय कुशलताओं में से एक है और थिएटर हमारी इन्ही कुशलताओं को विकसित करता है । अपनी खुद की जिंदगी को फिरसे बनाना सर्वोत्तम सृजनात्मकता है और थिएटर जीवन का पुनःसृजन है । थिएटर की प्रक्रियाएँ हमें खुद को पहचानने की , खुद का पुनःसृजन करने की कला सीखाती है जिससे की हम जीवन की विभिन्न धाराओं में परिवर्तन के संवाहक बन सकें ।
नेतृत्व क्षमता , संकल्पना , सृजनात्मकता , नवीनता , भावनात्मक विद्वता , टीम निर्माण , रणनीतिक आयोजना , व्यक्तिगत प्रभाव क्षमता , संप्रेषण , आत्मविश्वास कोई भी मैनेजमेंट का पक्ष हो , उसके लिए थिएटर अनुभव , सीखने और जीने का अनोखा जरिया है । थिएटर एक आइना है , यह आपकी आँखे खोलता है । और आपको आपका वर्त्तमान और भविष्य पहचानने में मदत करता है । यह तटस्थ विश्लेषण , उत्साह और विषय केंद्रित दृष्टि का विकास करता है । यह समक्ष के महत्त्व , अभिनवता तथा नाव परिवर्तन के लिए प्रेरणा प्रदान करता है ।
सिखने और नए प्रयोग करने के लिए थिएटर एक 360 डिग्री का माध्यम है । यह हमारे मस्तिक्ष , ह्रदय , शरीर और आत्मा यानि चरों आयामों को विकसित होने के सामान और एकसाथ अवसर देता है । किसी भी भविष्यदृष्टा नेता के लिए इन आयामों के प्रति जागरूक होना अनिवार्य है । थिएटर किसी भी व्यक्ति को उन आत्मिक ऊंचाइयों पर ले जाता है जहाँ पर व्यक्ति अपनी चुनौतियों का सुगमता से मुकाबला करने के योग्य बन जाता है । आज की जरुरत भी मूल्यों के विश्वास रखने वाले एक ऐसे नेतृत्व की है जो मानव सभ्यता को एक बेहतर कल की ओर ले जा सके ।
थिएटर ऊर्जा का सागर है और यह ऐसी पॉजिटिव प्रवृत्तियों का निर्माण करता है जिनके मनोविश्लेषणवादियों ने मानव व्यवहार का जन्म केंद्र बताया है । सही नजरिया , सही व्यवहार 100 प्रतिशत सफलता सुनिश्चित करता है । थिएटर अनुभव और शिक्षा का ऐसा सकसात्मक (पॉजिटिव) वातावरण बनाता है जोकि किसीके भी व्यवहार के लिए आवश्यक तत्त्व होते हैं। थिएटर संप्रेषण है। थिएटर मानवीय अनुभवों के संपूर्ण संप्रेषन (कम्युनिकेशन) का माध्यम है जोकि अभिनय करने वाले मानवों के द्वारा वास्तविकता का भ्रम पैदा करता है । दूसरे शब्दों में यह मानवों तथा बेहतर समझदारी के स्वभाव के बीच अमूर्त विचारों , अनुभवों और विभिन्न बारीक संबंधनों को मजबूत बनाने का प्रयास करता है। इसलिए थिएटर उच्चतम दर्जे का बौद्धिक व आत्मिक अभ्यास है । थिएटर के माध्यम से मौखिक एवं सांकेतिक दोनों प्रकार के संप्रेषणों का विकास होता है । यह बिनबोले संवादों में संवेदनात्मकता पैदा करता है । जैसे की आँखों से आँखों का संप्रेषण , संकेत , शरीर का उतना - बैठना , वेशभूषा , आवाज़ की टोन और पिच वगैरह । थिएटर निरिक्षण करने की क्षमता को बढ़ाता है और चीज़ों घटनाओं तथा व्यक्तियों का बारीकी से निरिक्षण करने का गुण किसीभी ट्रेनर या लीडर की खासियत होती है ।
थिएटर में वह क्षमता है जो विचारों , सपनों और अस्तित्व वादी अनुभवों। में जान डाल देती है जिससे एक लीडर को बहतर दृष्टि मिलती है और वह दूसरों को अपने सपनों से बांध सकता है और उन सपनों को पूरा करने के लिए प्रेरित कर सकता है ।
आज के मैनेजमेंट के सामने सबसे बड़ी चुनौती है मुखौटों के पीछे छिपे चेहरों को पहचानने की और थिएटर इन मुखौटों को उतारने में काफी मदतगार हो सकता है । थिएटर प्रक्रिया लोगोंको मुखौटे खुद - ब - खुद उतार फेंकने के लिए प्रेरित करती है । मुखौटा उतरने के बाद वे खुद अपने वजूद को तलाशना शुरू कर देते हैं और फिर उन्हें खुद अपने आप पर , नेतृत्व करने की अपनी क्षमता पर विश्वास होने लगता है और वे अपने स्वयं , अपनी कंपनी , अपनी यूनिटों के लिए लक्ष्य निर्धारित करने लगते हैं । मुखौटा उतरने के बाद अपने आप ताज़गी और सामंजस्य की लहर प्रवाहित होने लगती हैं । सकारात्मक तरंगों और भावों से अपने स्वयं तथा दूसरों के साथ संबंधों में प्रगाढ़ता आने लागती है जिससे प्रभावी ढंग से काम करने वाले लोगों की एक टीम बनने लगती है ।
थिएटर से आत्मविश्वास , विचारों में तारतम्यता , बहुमुखी प्रतिभा , सहजता , समय अनुसार उत्तर देने की क्षमता , सतर्कता , सावधानी , मुखरता आदि गुण आपने आप विकसित होते हैं । थिएटर आपको जीवंत और ऊर्जावान रखता है। तनाव दूर करने में भी थिएटर बड़ा कारगर है। यह तनाव मुक्त तो करता है साथ ही बहुत आनंद देता है। आज के व्यावसायिक संगठनों में लोगों में उत्साह और प्रसन्नता की कमी है । यह कमी थिएटर से दूर हो सकती है। प्रसन्नता मनुष्य को एक आतंरिक आनंद से भर देती है। और यह आनंद जीवन में आगे बढ़ने के जोश से लबालब कर देता है।
थिएटर हमारे अंदर छिपी संभावनाओं को झिंझोड़कर बाहर निकालता है । मैनेजरों के भीतर कहीं दबकर रह गयी सृजनात्मक शक्ति , श्रेष्ठता , कुछ कर दिखने का जज़्बा - इन सबको उभार कर सामने लाता है थिएटर। एक बार यह प्रतिभाएं सामने आ जाएं तो व्यक्ति अपने व्यक्तिगत रूप में और संगठन के प्रतिनिधि के रूप में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने के लिए खुद ब खुद लालायित हो उठता है । और यह सफलता भी ऐसी होती है जो स्वयं को ही अनुभव नहीं होती बल्कि दूसरे लोग भी बोल उठते हैं , तारीफ कर उठते हैं । तभी तो इसकी सार्थकता है ।
किसी भी व्यावसायिक संगठन या औद्योगिक संगठन में प्रशिक्षण कार्यक्रम में रचनात्मक तकनीकें , टीम वर्कशॉप और रचनात्मक रूप से समस्याएँ समाधान आदि कई माध्यमों में थिएटर की उपयोगी भूमिका हो सकती है । अतः प्रबंधन विकास कार्यक्रम , कार्यक्रम बद्ध प्रबंधन विकास कार्यक्रम तथा अर्ध कार्यक्रम बद्ध विकास कार्यक्रमों में थिएटर प्रक्रिया के प्रभावी इस्तेमाल की बहुत गुंजाईश है। ये प्रशिक्षण प्रक्रिया क्लासरूम से बाहर निकलने की और बाहर निकल कर थिएटर तक जाने की एक ऐसी यात्रा है जो लगातार जारी रह सकती है। भेल के उच्चाधिकारियों ने नाटक ' We will prevail ' का मंचन किया ।
'थिएटर ऑफ़ रेलेवंस ' ने नई दिल्ली के ईएमपीआई बिज़नस स्कूल (EMPI Business School) में 3 - 4 सितम्बर 2007 तक 'Role of Theatre in Management' विषय पर एक कार्यशाला की थी । मानव संसाधन विषय में भारत के अग्रणी विशेषज्ञ डॉ. उदय पारीक ने इस संबंध में कहा की ," नई सृजनात्मक प्रक्रियाओं को बनाने का एक सबसे अच्छा रास्ता थिएटर है। चूँकि थिएटर सृजनात्मकता को बढ़ाता है। " थिएटर प्रबंधन में कई तरह से योगदान तथा सहयोग करता है । जब प्रबंधक वर्ग के लोग थिएटर में भाग लेते हैं तब सबसे पहला परिवर्तन जो दिखाई देता है वह यह होता है कि वे लोग अधिक आसानी से अपने आपको अभिव्यक्त करने लगते हैं । वे पहले की तरह खामोश या खींचे हुए से नहीं रहते हैं। वे एकदूसरे के प्रति पहले से ज्यादा खुले हुए तथा विश्वास से भरे नज़र आते हैं। लोग ख़ुशी से भरे नज़र आते हैं जो की आज की सबसे बढी संगठनात्मक आवश्यकता है। थिएटर में भाग लेने से उनमें एक दुसरे के साथ मिलकर काम करने की इच्छा जागृत हुई। एक दूसरे के साथ मिलकर काम करने में उन्हें ख़ुशी महसूस होने लगी। और एक अन्य जो सबसे बड़ा थिएटर का योगदान रहा वह था सृजनात्मकता। इतने कम समय में भी सभी प्रतिभागी कुछ विषयों पर अपना मौलिक चिंतन कर सके और उसे प्रभावी तरीकेसे दूसरों तक संप्रेषित कर सकें।
इसी तरह की एक कार्यशाला का आयोजन भारत हैवी एलेक्ट्रोनिक्ल लिमिटेड (भेल) में किया गया था। ये कार्यशाला वहां के वरिष्ठ कार्यपालकों के लिए आयोजित की गई थी। इसके उद्देश्यों में शामिल था - कारोबारी वातावरण को तथा अपने संगठन पर उसके प्रभाव को समझना , संगठन के सामने खड़ी चुनौतियों को समझना , रणनीतिक फैसले करने की प्रक्रिया को समझना और संगठन में परिवर्तन लाने में अपनी भूमिका को पहचानना। प्रबंधन विकास में थिएटर के माध्यम से सीखने के इस कार्यक्रम को प्रोग्राम डायरेक्टर पार्थसारथी तथा मंजुल भारद्वाज ने तैयार किया था।
इस कार्यशाला में उच्च कार्यपालकों की भागीदारी थी और इसकी थीम थी 'लीडिंग विथ विज़न' और 'स्ट्रेटेजिक थिंकिंग' इसका एक महत्वपूर्ण मुद्दा था। इस कार्यशाला में थिएटर के हस्तक्षेप का जो मॉडल अपनाया गया वह अपने आप में एकदम अलग था ,"de freezing - intervening - experiential learning - theory developed by kolb" । शुरुवात में मायमिंग , ड्रीमिंग , नॉन लॉजिकल एक्टिविटीज वगैरह अभ्यासों के माध्यम से प्रतिभागियों की सृजनात्मक चिंतन प्रक्रिया को जागृत किया गया। उनमें से अनेक के लिए यह काफी मुश्किल प्रयोग रहा क्योंकि वे कल्पनाशक्ति का इस्तेमाल करने के बजाय अपनी विश्लेषण क्षमता का उपयोग कर रहे थे जिसके वे अभ्यस्त थे। काफी प्रयासों के बाद उनकी कल्पनाशक्ति और सृजनात्मक चिंतन को गतिमान किया जा सका। फिर कुछ छोटे छोटे कार्यों और खेलों के द्वारा उनमें भेल के आदर्शों जैसे की श्रेष्ठता , त्वरिता और सीखने की क्षमता को अनुभव के स्तर तक लाया जा सका।
किसी भी अनदेखी या अनजानी चुनौतियों का सामना करना आज के प्रबंधन वर्ग के सामने सबसे बड़ी समस्या है। इसके लिए 'अज्ञात की ओर' नामक अभ्यास से उन्हें सभी प्रकार की चुनौतियों और समस्याओं का सामना करने का हौंसला तथा दृष्टि दी गई। इस कार्य में उन्हें बंद आँखों से अपने मार्ग में पड़ने वाली विभिन्न बधाओं को पार करना था केवल अपने फैकल्टी के मौखिक निर्देशों के आधार पर इस अभ्यास प्रक्रिया में उन्होंने महसूस किया कि किस तरह से छोटे छोटे संकेत , किसी की छोटी सी मदत अपनी खुद की प्रेरणा , अपना आत्मविश्वास किस तरह से बाधाओं को पार करने में सहायक होता है।
Visualizer- influencer- doer एक दूसरे के दृष्टिकोण के साथ मिलकर कैसे काम किया जाता है इसे समझने के अभ्यासक्रम में उन्होंने तीन भूमिकाओं का अनुभव किया।
एक व्यक्ति किसी चीज , घटना या अनुभव के बारे में अपनी सोच दूसरे व्यक्ति तक इस तरह से संप्रेषित करता था जिससे की दूसरा व्यक्ति उसे पूरी तरह से समझ कर उसे कार्य रूप देता था। फिर इसी कार्य को समूह कार्य का रूप दे दिया गया। चार समूह में बँटे प्रतिभागियों को 15 मिनट में सोचना और फिर उस सोचे हुए विषय को प्रस्तुत करना था। इस अभ्यासक्रम से उन्हें व्यक्तिगत रूप से सोचना , जोखिम उठाना , आपस में हिस्सेदारी करना , बहुत से विकल्पों में से सही विकल्प का चुनाव करना , सुधर लाना , निर्णय लेने की क्षमता , दूसरों को प्रभावित करना आदि अनेक व्यवहारात्मक प्रक्रियाएं सीखने को मिली।
अंत में सभी समूहों ने अपनी अपनी प्रस्तुतियां रखी। यहाँ पर एक दूसरे को मदत करने की भावना इतनी अधिक बढ़ चुकी थी की प्रतिभागी एक दूसरे के समूह को बेहतर प्रस्तुति के लिए मदत करने लगे थे। इसके बाद सभी समूहों ने तैयारी से प्रस्तुति तक के अपने अपने अनुभवों को सबके साथ बाँटा था।
Defreezing के लिए प्रतिभागियों ने कार्टून , मोनोएक्टिंग , कविताओं और विभिन्न प्रकार के संकेतों द्वारा अपने आपको अभिव्यक्त किया।

Comments

Popular posts from this blog

“तत्व,व्यवहार,प्रमाण और सत्व” की चतुर्भुज को जो साधता है वो है...क्रिएटर” – मंजुल भारद्वाज (रंग चिन्तक )

“थिएटर ऑफ़ रेलेवंस” नाट्य सिद्धांत पर आधारित लिखे और खेले गए नाटकों के बारे में- भाग - 5.. आज का नाटक है “मैं औरत हूँ!”